IMG-LOGO
Home Reviews जानिए कैसी है 2020 मारुति विटारा ब्रेजा: रिव्यू

जानिए कैसी है 2020 मारुति विटारा ब्रेजा: रिव्यू

by Ravindra Deopa - 2020-09-06 08:24:36
जानिए कैसी है 2020 मारुति विटारा ब्रेजा: रिव्यू

2016 में अपने लॉन्च के बाद से अब तक मारुति विटारा ब्रेज़ा सब-4 मीटर एसयूवी सेगमेंट (सब-कॉम्पैक्ट एसयूवी) में लोगो की पहली पसंद रही है। लॉन्च के समय यह सिर्फ डीजल इंजन के साथ ही आती थी। लेकिन मार्च 2020 में कंपनी ने इसे फेसलिफ्ट अपडेट देते हुए पेट्रोल इंजन के साथ पेश किया। चूंकि ये फेसलिफ्ट अपडेट था ऐसे में डिज़ाइन में अपडेट होने तो बनता ही है। तो आईये विस्तार से जानते हैं कि कैसी है 2020 मारुति विटारा ब्रेजा पेट्रोल:-

 

एक्सटीरियर (Exterior)

 

 

 

 

 

2020 विटारा ब्रेज़ा पेट्रोल पहली नज़र में इसके पुराने मॉडल जैसी ही लगती है। लेकिन ध्यान से देखने पर आप पाएंगे कि कंपनी ने इसमे छोटे-मोटे बदलाव किये हैं। बात करें इसके फ्रंट प्रोफाइल की तो इसमें नई ब्लेड क्रोम ग्रिल दी गई है। कार के हेडलैंप की ओवरऑल बनावट पहले जैसी ही है लेकिन इसमें अब डबल बैरल एलईडी यूनिट्स दी गई है। हेडलैम्प्स में ही इंटरग्रटेड एलईडी डीआरएल (डे-टाइम रनिंग लैम्प्स) भी दिए गए हैं। ये डीआरएल टर्न इंडिकेटर का भी काम करेंगे। नए अपडेट के साथ कार के बम्पर और फॉग लैंप दी डिज़ाइन में भी मामूली चेंज किए गए हैं। इसमें अब एलईडी फॉग लैम्प्स दिए गए हैं। ब्लैक क्लैडिंग वाली इसकी नयी फॉग लैप हाउसिंग में हॉरिजॉन्टल लाइनिंग पैटर्न दिया गया है जो इसे रगड़ लुक देते हैं। वहीं, इसके बम्पर पर मिलने वाले सिल्वर कलर फॉक्स स्किड प्लेट कार के फ्रंट लुक को दमदार बनाते हैं।

 

 

 

 

कार की साइड डिज़ाइन इसके प्री-फेसलिफ्ट मॉडल की तरह ही बोक्सी है। हालांकि, अब इसमें 16 इंच के नए अलॉय व्हील दिए गए हैं। फेसलिफ्ट अपग्रेड के साथ कंपनी ने इसमें तीन नए ड्यूल टोन (मैटेलिक सिज़लिंग रेड के साथ मिडनाइट ब्लैक रूफ, ब्लू के साथ मिडनाइट ब्लैक रूफ और ग्रेनाइट-ग्रे के साथ ऑटम ऑरेंज रूफ ) और दो नए मोनोटोन कलर्स (मैटेलिक सिज़लिंग  रेड और टार्क ब्लू) की भी पेशकश की है। ये ड्यूल टोन एक्सटीरियर पेंट कार के कॉन्ट्रास को निखारते हैं।

 

 

 

 

रियर में, फेसलिफ्ट अपडेट के साथ कंपनी ने केवल टेललैंप में एलएलडी एलिमेंट्स दिए हैं और रियर बम्पर पर फॉक्स स्किड प्लेट की डिज़ाइन में बदलाव किये है। इसके अलावा, कार के ऑटोमैटिक वैरिएंट्स में आपको टेलगेट पर “हाइब्रिड” की बैजिंग भी मिलेगी।

 

 

 

 

ओवरऑल, फेसलिफ्ट विटारा ब्रेज़ा पेट्रोल की डिज़ाइन इसके पुराने डीजल मॉडल जैसी ही है। हाँ, कंपनी ने मॉडर्न टर्न्ड के हिसाब से इसके लाइटिंग सिस्टम में एलएलडी एलिमेंट्स की पेशकश की है जो कि एक अच्छी बात है। लेकिन कुल बदलावों को देखते हुए इसे माइल्ड-फेसलिफ्ट वर्ज़न कहना ज्यादा सही होगा।

 

  2020 मारुति विटारा ब्रेज़ा
लम्बाई 3995 मिलीमीटर
चौड़ाई 1790 मिलीमीटर
ऊंचाई 1640 मिलीमीटर
व्हीलबेस 2500 मिलीमीटर
ग्राउंड क्लीयरेंस 198 मिलीमीटर
बूट स्पेस 328 लीटर

 

 

इंटीरियर और फीचर्स (Interior & Features) 

विटारा ब्रेज़ा पेट्रोल का इंटीरियर इसके डीजल मॉडल जैसा ही है। हालांकि, कंपनी ने इसमें कुछ नए फीचर्स की पेशकश की है। जिनकी बात हम बाद में करेंगे।

 

 

 

ब्रेज़ा में ऑल-ब्लैक केबिन मिलता है। कार के एक्सटीरियर की तरह एक बोक्सी या चौकोर थीम आपको कार के डैशबोर्ड में भी नज़र आएगी। कलर कॉन्ट्रास के लिए कार के ग्लोव बॉक्स, स्टर्रिंग व्हील और डोर पैड्स पर सिल्वर हाइलाइट्स मिलते हैं। वहीं, इसके साइड एसी वेंट्स और सेंटर कंसोल के चारों ओऱ पियानो ब्लैक फिनिशिंग मिलती जो इसे थोड़ा प्रीमियम लुक देते हैं।

फेसलिफ्ट अपडेट के साथ कंपनी ने कार में नई फैब्रिक अपहोल्स्ट्री दी है। साथ ही, इसके 7-इंच स्मार्टप्ले टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम को भी अपडेट किया गया है। यह अब क्लाउड कनेक्टिविटी को सपोर्ट करता है जो आपके स्मार्ट फ़ोन के इंटरनेट से चलेगा। हालांकि, ब्रेज़ा के मुकाबले वाली कारें जैसे टाटा नेक्सन, फोर्ड इकोस्पोर्ट, हुंडई वेन्यू आदि में इंटीग्रेटेड इंफोटेनमेंट की जगह फ्लोटिंग यूनिट मिलती है। इस मामले में यह थोड़ी पिछड़ी हुई लगती है। मारुति को फेसलिफ्ट अपडेट के साथ इसमें फ्री-स्टैंडिंग इंफोटेंमेंट सिस्टम और सेमी-डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर की पेशकश करनी चाहिए थी। इसके अलावा, वेन्यू की तुलना में इसमें ई-सिम टेक्नोलॉजी की भी कमी है। हालांकि, इसमें अब ऑटो डिमिंग आईआरवीएम, क्रूज कंट्रोल और हिल असिस्ट जैसे नए फीचर्स शामिल किए गए हैं जो ड्राइविंग एक्सपीरियंस को ओर बेहतर और बनाते हैं।

अन्य फीचर्स की बात करें तो इसमें स्टेटिंग माउंटेड ऑडियो और टेलीफोनी कंट्रोल, ऑटोमैटिक क्लाइमेट कंट्रोल, इलेक्ट्रिकली एडजस्टेबल ओआरवीएम, इंजन स्टार्ट/स्टॉप बटन, एप्पल कार प्ले और एंड्रॉयड ऑटो कनेक्टिविटी, टिल्ट एडजस्टेबल स्टीयरिंग व्हील, हाइट एडजस्टेबल ड्राइवर सीट आदि खूबियां मिलती है।

एक बात जो यहां थोड़ी निराश करती है वो ये कि फेसलिफ्ट अपडेट के साथ कंपनी ने अब भी कार की मटेरियल क्वालिटी में सुधार नहीं किया है। इसमें अब भी कई जगह आपको हार्ड प्लास्टिक और पार्ट शेयरिंग दिखेगी।

बात करें कार की सीटिंग और स्पेस की तो, इसके सीट्स की क्वालिटी और क्वालिटी कुशनिंग अच्छी है। कार की फ्रंट सीट्स को हाई पोज़िशनिंग दी गई है। हालांकि, ड्राइवर सीट की हाइट को मैनुअली एडस्ट कर सकते हैं। इसमें पावर एडजस्टिंग फंक्शन की कमी है। लेकिन हेडरूम, बेक सपोर्ट और थाई सपोर्ट से जुड़ी आपको कोई परेशानी नहीं होगी। साथ ही, ड्राइवर और को-पैसेंजर के नैक सपोर्ट हेतु इसमें एडजस्टेबल हेडरेस्ट भी मिलते हैं।

 

 

 

 

अब चलते है पीछे की सीटों पर- फ्रंट की तरह इसकी पिछली सीटों का भी कम्फर्ट अच्छा है। इसमें आपको नी-रूम, लेगरूम और हेडरूम की कोई कमी महसूस नहीं होगी। पैसेंजर के कम्फर्ट के लिए इसमें सेंटर आर्मरेस्ट और विंडो-साइड सीट्स पर एडजस्टेबल हेडरेस्ट भी मिलता है। लेकिन मिडिल सीट के लिए इसमें कोई हेडरेस्ट नहीं दिया गया है। यहाँ तक की फ्लोर हंप, और फ्रंट आर्मरेस्ट हाउसिंग के कारण लंबी दूरी की यात्रा के दौरान एक लंबी हाइट वाले एडल्ट पैसेंजर के लिए यहां बैठना थोड़ा मुश्किल भरा हो सकता है।

इसमें रियर एसी वेंट, सनरूफ और टायर्स प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम जैसे फीचर्स की भी कमी है।

सेफ्टी के लिहाज़ से इसके सभी वैरिएंट्स में ड्यूल फ्रंट एयरबैग, एंटीलॉक ब्रेकिंग सिस्टम (एबीएस) के साथ इलेक्ट्रॉनिक ब्रेकफोर्स डिस्ट्रीब्यूशन (ईबीडी), आईएओफिक्स चाइल्ड सीट माउंट, रियर पार्किंग सेंसर्स, सीट बेल्ट रिमाइंडर और स्पीड अलर्ट सिस्टम जैसे फीचर्स स्टैंडर्ड मिलते है। वहीं, इसके टॉप लाइन वैरिएंट्स में रिवर्स कैमरा और ऑटोमैटिक वैरिएंट्स में हिल होल्ड असिस्ट का फीचर भी मिलता है। जानकारी के लिए बता दें कि विटारा ब्रेज़ा के प्री-फेसलिफ्ट को ग्लोबल एनकैप के क्रैश टेस्ट में एडल्ट पैसेंजर्स की सुरक्षा के लिए 4-स्टार रेटिंग मिल चुकी है जो कि मारुति के इंडियन पोर्टफोलियो में अब तक की सबसे ज्यादा सेफ्टी रेटिंग है।

स्टोरेज स्पेस की बात करें तो इसमें इसकी कोई कमी नहीं है। इसमें ट्विन ग्लवबॉक्स, दोनों फ्रंट और रियर डोर्स में बोतल होल्डर, सेंटर कंसोल टनल में दो कप होल्डर, हैंड ब्रेक के पास छोटे स्टोरेज स्पेस, फ्रंट आर्मरेस्ट में छोटा स्टोरेज, रियर सेंटर आर्मरेस्ट में कप होल्डर आदि मिलते हैं। साथ ही ड्राइवर सीट के बैक साइड में इसके कोट हुक भी मिलते हैं। कार के बूट की क्षमता 328 लीटर है जो कि एक्सयूवी300 से ज्यादा मगर सेगमेंट की अन्य कारों से काफी कम है। हालांकि, इसके रियर में 60:40 फोल्डिंग सीट्स मिलती है ऐसे में पिछली सीट काम में ना आने पर इन्हें फोल्ड कर लगेज स्पेस को बढ़ाया जा सकता है।

 

इंजन परफॉर्मेंस 

 

2020 फेसलिफ्ट अपडेट के साथ मारुति ने विटारा ब्रेज़ा में इसके पुराने 1.3-लीटर डीजल इंजन को बंद करते हुए इसके साथ सियाज़ वाले नए 1.5-लीटर, 4-सिलंडर पेट्रोल इंजन की पेशकश है। इस इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल और 4-स्पीड टॉर्क कनवर्टर ऑटोमैटिक गियरबॉक्स का ऑप्शन दिया गया है। ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के साथ आने वाले वैरिएंट्स के साथ माइल्ड-हाइब्रिड टेक्नोलॉजी भी मिलेगी जो बेहतर माइलेज देने में मदद करती है।

आईये एक नज़र डालें इसके इंजन स्पेसिफिकेशन पर:-

 

  2020 मारुति सुजुकी विटारा ब्रेज़ा
इंजन 1.5-लीटर, 4-सिलेंडर पेट्रोल
इमिशन नॉर्म्स बीएस6
अधिकतम पावर 105 बीएचपी
अधिकतम टॉर्क 138 न्यूटन मीटर
गियरबॉक्स ऑप्शन 5-स्पीड मैनुअल /4-स्पीड ऑटोमैटिक
माइलेज 17.03 किमी/लीटर (मैनुअल)

18.76 किमी/लीटर (ऑटोमैटिक)

 

कार को स्टार्ट करते ही आप पाएंगे कि ये बेहद ही कम आवाज करता है और आइड्लिंग वाइब्रेशन भी डीजल मॉडल से बेहद ही कम है। यह इंजन ब्रेज़ा से पहले एक्सएल6 और सियाज़ में दिया जा चुका है। और यहां भी यह अपनी बेहतरीन परफॉर्मेंस कायम रखे हुए है।

इंजन की पावर डिलीवरी कमाल की है और मिड-रेंज में इसकी परफॉर्मेंस के क्या कहने। आप बिना थके इस दिनभर चला सकते हैं। मारुति ने इसके मैनुअल गियरबॉक्स की इंजन से ट्यूनिंग बेहद अच्छे ढंग से की है और यह 2nd गियर में भी 40 किमी/घंटा की स्पीड आसानी से पकड़ लेती है और आपको इंजन पर लोड भी महसूस नहीं होता है जो कि सिटी ड्राइविंग के हिसाब से एक अच्छी बात है। यही नहीं, हायर गियर पर भी कम स्पीड पर बिना परेशानी के चल जाती है जो कि सिटी ड्राइविंग कंडीशन के हिसाब से एक और ऐड-ऑन पॉइंट है। हाईवे पर यह 3-डिजिटल की स्पीड आसानी से पकड़ लेती है। इसमें क्रूज कंट्रोल भी मिलता है जो आपको थ्रोटलिंग से राहत देता है।

बात करें इसके ऑटोमैटिक गियरबॉक्स की तो बार-बार गियर बदलने की झंझट से छुटकारा देने के साथ-साथ इसकी सिटी परफॉर्मेंस भी अच्छी है। सिटी स्पीड पर यह बेहद स्मूथली अपना काम करता है और आपको इससे कोई शिकायत नहीं होगी। लेकिन हाईवे स्पीड पर तेज़ी से एक्सेलरेशन होने में यह गियरबॉक्स थोड़ा समय लेता है जिसकी वजह इसका 4 स्पीड गियर रेश्यो है। ऐसे में ओवरटेक करने या चढाई वाले रास्तों पर आपको थोड़ी मुश्किल हो सकती है।

इस ऑटोमैटिक पावरट्रेन के साथ सुजुकी की स्मार्ट माइल्ड हाइब्रिड टेक्नॉलजी भी मिलती है जो आइड्लिंग या कार के खड़े रहने की स्थिति में इंजन को बंद कर देता है जिससे बेवजह होने वाली फ्यूल खपत में कमी आती है और बेहतर माइलेज मिलता है। ऑन-रोड माइलेज की बात करें तो यह सिटी में आपको लगभग 14 किमी/लीटर और हाईवे पर लगभग 16 से 17 किमी/लीटर का माइलेज आसानी से दे सकती है। हालांकि, माइलेज फिगर आपके ड्राइविंग पैटर्न और रोड कंडीशन पर भी निर्भर करते हैं।

 

राइड क्वालिटी 

 

विटारा ब्रेज़ा की राइड क्वालिटी काफी अच्छी है। यह रोड के बंप्स और गड्डो को आसानी से सोख लेती है और आपको केबिन में कोई परेशानी नहीं होगी। कार की हैंडलिंग अच्छी है और इसका स्टीयरिंग आपको पर्याप्त फीडबैक देता है। सिटी ड्राइविंग में इसका स्टीयरिंग लाइट लगता है लेकिन स्पीड बढ़ने के साथ यह हैवी लगने लगता है जो ड्राइविंग कॉन्फिडेंस को बढ़ाता है।

 

वैरिएंट और प्राइस 

 

विटारा ब्रेज़ा वैरिएंट्स मैनुअल ऑटोमैटिक
एल ₹ 7.34 लाख -
वी ₹ 8.35 लाख ₹ 9.75 लाख
जेड ₹ 9.10 लाख ₹ 10.50 लाख
जेड+ ₹ 9.75 लाख ₹ 11.15 लाख
जेड+ ड्यूल टोन ₹ 9.98 लाख ₹ 11.40 लाख

 

*सभी कीमतें एक्स-शोरूम दिल्ली के अनुसार

 

खूबियां 

  • रिफाइन पेट्रोल इंजन
  • फन-टू-ड्राइव परफॉर्मेंस
  • अच्छी राइड क्वालिटी

 

खामियां 

  • डीजल इंजन की कमी- सेगमेंट की अन्य सभी कारों के साथ बीएस6 पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन ऑप्शन उपलब्ध है।
  • कम्पटीशन वाली कारों के अनुसार सनरूफ, रियर एसी वेंट्स, फ्लोटिंग इंफोटेनमेंट यूनिट, कनेक्टेड टेक्नोलॉजी और टायर्स प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम का अभाव।
  • सुरक्षा के लिहाज़ से साइड व कर्टेन एयरबैग्स की कमी।
  • ऑटोमैटिक गियरबॉक्स की परफॉर्मेंस थोड़ी और बेहतर होनी चाहिए थी।
  • इंटीरियर प्लास्टिक पार्ट्स की क्वालिटी औसत है।

 

निष्कर्ष

मारुति विटारा ब्रेजा का यह पेट्रोल इंजन बेहद रिफाइन, फन-टू-ड्राइव और किफायती है। मैनुअल गियरबॉक्स के साथ इसकी परफॉर्मेंस काबिल-ए-तारीफ है। इसका नया ऑटोमैटिक गियरबॉक्स पुराने एएमटी गियरबॉक्स की तुलना में अच्छा है लेकिन ओवरऑल इसमें अब भी सुधार की बेहद गुंजाइश है। फीचर्स के लिहाज़ से यह अच्छा पैकेज है लेकिन मॉडर्न ट्रेंड को देखते हुए इसमें कई खूबियों की कमी है।